HEADLINES

Lenin In Hindi

Lenin In Hindi

व्लादिमीर इलीइच उल्यानोव का रुसी साम्यवादी क्रांती के नेता माने जाने वाले लेनिन एक प्रसिद्द राजनैतिक सिद्धांतकार माने जाते है जिन्होंने अपना सार जीवन गरीब दबे कुचलो के लिए बलिदान कर दिया | विश्व प्रसिद्द बोल्शिक क्रांति के नेता भी रहे  और इन्ही के प्रयासों के फलस्वरूप सोवियत संघ में के छत्र  समयवादी शासन व्यवस्था कायम हो सकी | लेनीन के विचार पर कार्ल मार्क्स के विचारो का काफी व्यापक असर पड़ा था | जिस कारण इन्ह्को मार्कवादी विचारक के रूप में भी जाना जाता है | इनके विचारो के समुच्चय को लेनिनवाद के नाम से जाना जाता है -   जिसके अतगर्त इन्होने पूजीवाद , साम्राज्यवाद . उपनिवेशवाद का विरोध किया है| वैअसे तो लीनिं का जन्म एक साधारण मध्यवर्गीय परिवार में जन्मे थे किन्तु १८८७ में घटित एक घटना जिसमे इसमें बड़े भाई को मौत के घात उतार दिया गया जिस कारण इन्होने  साम्यवादी शासन व्यवस्था के लिए  रूस की क्रांतिकारी समाजवादी राजनीति को स्वीकार के कर लिया | रूसी साम्राज्य की ज़ार सरकार के विरोध गतिविधियों में भाग लेने के कारण लेनिन को   कज़न इंपीरियल विश्वविद्यालय से निस्कर्सित भी होना पड़ा | लेनिन ने अपने जिब्वं काल के दौरान कानून की शिक्षा प्राप्त की अंतत : कट्टर  वरिष्ठ मार्क्सवादी कार्यकर्ता बने बताया जाता है की इनके विरुध देश द्रोह का मुकदमा भी चलाया गया था | रूसो जार शाही शासन के विरुद्ध गतिविधियों में लिप्त होंने के कारण  चलाए गया और इनको देश निकला कर दिया गया | जिस कारण लेनिन पश्चिमी यूरोप में चले गए, वहाँ  उन्होंने मार्क्सवादी रूसी सामाजिक डेमोक्रेटिक लेबर पार्टी (आरएसडीएलपी) के एक प्रमुख सिद्धांतकार तो बने ही इसके साथ ही विभाजनकार भी बने जुलियस मार्टोव के मेन्शेविकों के खिलाफ बोल्शेविक गुट का समर्थन किया | सन 1917 की फरवरी माह में रुसी क्रांति के पश्चात इन्होने रूस में ज़ारशाही व्यवस्था को हटाकर साम्यवादी शासन की नीव रखी |


boigraphy of lenin part 1 


boigraphy of lenin part 2 



Share this:

Post a comment

 
Copyright © 2020 Society Of India . Designed by OddThemes