HEADLINES

biography of baba saheb in hindi base on waiting for a visa

biography of baba saheb in hindi base on waiting for a visa

डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर का जन्म १४ अप्रैल 1991 ई० को मध्य प्रदेश (वर्तमान ) राज्य के महू नगर में स्थित एक सैन्य छावनी में हुआ था | यह क्षेत्र उस समय अग्रेजी हुकुमत के अधिकार क्षेत्र में आता था | इसके पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल तथा इसकी माता का नाम भीमाबाई था |डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर अपने माता - पिता के १४ वे संतान थे | डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर का जन्म  एक महार परिवार में हुआ था | या यु कहे की डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर एक महार जाति के व्यक्ति थे | इसके पिता ब्रिटिश ईष्ट इंडिया कंपनी में सूबेदार ले पद पर आसीन थे | डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर दलितों व वंचितों के हो रहे अत्याचार के विरुध्द  सशक्त आवाज उठाने का कार्य ही नही किया  | बल्कि डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर ने  महिला अधिकार की वकालत करने वाले में अग्रिणी गिना जाता है | यदि डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर को  महिला अधिकार की वकालत करने वाले चैम्पियन कहा जाए तो गलत  नही  होगा  | जिन्होंने अपना गुरु ज्योतिराव फुले को माना था | इनके मार्ग प्रज्ज्वलित करने वाले  मार्ग दर्शक के रूप में  बाबा साहेब ने  कबीर , फुले , बुद्ध  को माना है | जो इनके  प्रेरणा के स्त्रोत रहे  | और जनमानस के अंदर चेतना जागृत की | इससे पहले दलितों वंचितों के अधिकारों को समतामूलक समाज जी  स्थापना के यही प्रेरक | डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर  जब केवल मात्र १५ वर्ष के थे |

उसी समय डॉ॰बाबासाहब अम्बेडकर का विवाह रमाबाई से कर दिया गया जो मात्र ९ वर्ष की कन्या थी | महार जाति में जन्म लेने के कारण डॉ॰बाबासाहब अम्बेडकर  के जातिगत भेदभाव का शिकार होना पड़ा था |या यु कहे की जातिगत भेदभाव जो वर्षो से हिन्दू धर्म में व्याप्त थी जिसने केवल डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर को ही केवल प्रभावित कर रही थी बल्कि अनेक लोगो के  समाजिक व आर्थिक उत्पिड़ना का शिकार का कारण बना | वो सकता है वही वजह हो की इनका परिवार कबीर पंथ को मानता हो | डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर  मूलतः मराठी मूल के निवासी थे |डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर  की प्राथमिक शिक्षा सातारा शहर में स्थित गवर्मेंट हाईस्कूल वर्तमान समय में प्रतापसिंह हाईस्कूल तथा माध्यमिक शिक्षा इन्होने मुम्बई शहर में एल्फीस्टोन रोड पर स्थित गवर्मेंट हाईस्कूल से इन्होने आगे की शिक्षा प्राप्त की |तथा स्नातक राजनीतिक विज्ञान एवं अर्थशास्त्र के क्षेत्र में  एल्फीस्टन कॉलेज से प्राप्त की | इसके अलावा डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर ने  संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यूयार्क शहर में स्थित कोलम्बिया विश्वविद्यालय से परास्नातक (विषय - अर्थशास्त्र , इतिहास , समाजशात्र ,मानवशास्त्र ,दर्शनशात्र ) शिक्षा प्राप्त की | क्योकि डॉ॰ बाबासाहब  अम्बेडकर की आर्थिक स्थितीय सही नही थी | लिहाजन इनकी शिक्षा दीक्षा बिना छात्रवृति के संभव नही था|इसलिए डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर को अपनी शिक्षा के लिए सयाजीराव गायकवाड़ की छात्रवृति पर निर्भर रहना पड़ता था | जिसकी रकम 25 रूपये  प्रति माह दिए जाते थी | लन्दन स्कूल ऑफ़ इकॉनोमिक से अर्थशास्त्र के क्षेत्र में ८ मार्च  १९२७ ई ० डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की | १९३५ ई० में इनकी पति रमाबाई की मृत्यु बीमारी के कारण हो गई |१९४८ में डॉ॰ बाबासाहब अम्बेडकर ने शारदा कबीर  ( बाद के वर्षो  में यही सविता के नाम से जानी गई )के विवाह कर किया जो एक ब्राहमण महिला एवं डॉ ० थी | अपने जीवन के अंतिम समय में बाबा साहेब बुद्ध और धम्मा नामक पुस्तक को लिखते रहे | क्योकि बाबा साहेब स्वास्थ्य सम्बन्धित समस्याओ से जूझ रहे थे अंत: बाबा साहेब की मृत्यु ६ दिसम्बर १९५६ को इनको मोक्ष की प्राप्ति ही गई |

Share this:

Post a comment

 
Copyright © 2020 Society Of India . Designed by OddThemes