HEADLINES

Mother Poem In Hindi

            Mother Poem In Hindi || माँ मुझे छुपा ले 

mother poem in hindi  , ma par kavita, ma ki kavita, ma ke liye kavita , mother day kavita , ma ki kavita ,poem on mother in hindi,hindi poem on ma , hindi poem on mother ,
Mother Poem In Hindi
                                                                                                                                आभार : गूगल इमेज


माँ मुझे छुपा ले
अपने आँचल में
ये दुनिया बहुत बुरी है
घूरती है मुझे |

अपनी नंगी - नंगी आँखोँ से
और कहती है
कि तू  बुरी है
यौवनावस्था जब से आयी है||

ये कैसी विकट परिस्थिति लायी है
हर कोई मसलने की ताक
में रहता है
कहता नहीं कुछ |||

पर उनकी
आँखों से  दर्शता है
बोलता नहीं कुछ
पर मन में बात रहती है ||||

डर लगता है उन आँखों से
जो इस तन को ताका करते है
राह तका करते है
राहों में कि वो अब आएगी

हमारी हुस्न देखने की चाह को
फिर से मिटाएगी
कैसे निकलूँ अब घर से
इस तन के साथ

जो प्रदर्शन की वस्तु है
मुझे निहारता हर वो बन्दा
नीचे से ऊपर तक
जिसे मैं नही मेरी जवानी अच्छी लगती है

माँ मुझे छुपा ले
अपनी आँचल में
मुझे ये दुनिया बहुत
बुरी लगती है ..

Mother Poem In Hindi - नामक  यह कविता  आपको कैसा लगा आपके इसके सुझाव कॉमेट बॉक्स में कॉमेट करके दे सकते है | धन्यवाद !

More - कश्मीरी चाइल्ड "आसिफा" के दर्द को बयाँ करती कविता (Sad Poem in Hindi on Girl)

                                                                                                                        
                                                                                                                          कवि :  शिव कुमार खरवार

Share this:

Post a comment

 
Copyright © 2020 Society Of India . Designed by OddThemes