HEADLINES

Fear Poem In Hindi

             Fear Poem In Hindi || आज फिर अंधेरी रात आयी         

 fear poem in hindi , fear poem , poem of  fear in hindi , fear in hindi
Fear Poem In Hindi
       
 आभार  : गूगल इमेज 

आज फिर अंधेरी रात आयी
जो मेरी जीवन मे अंधकार लायी
छुपता फिर रहा था जिस अंधेरे से
वो रात फिर वापस आयी ।

दिल मे दर्द आंखों में आँसू लायी
‎जिससे दूर भाग रहा था
‎वो रूह बनकर मेरे जिस्म में समायी
आज फिर वो अंधेरी रात आयी।।

Fear Poem In Hindi - नामक  यह कविता  आपको कैसा लगा आपके इसके सुझाव कॉमेट बॉक्स में कॉमेट करके दे सकते है | धन्यवाद !

More -  नारी हूँ कोई सामान नहीं (Women Poem In Hindi)

कवि - शिव कुमार खरवार

Share this:

Post a comment

 
Copyright © 2020 Society Of India . Designed by OddThemes