एक नजर

Monday, 13 January 2020

जानिए क्या है भारत में वेश्यावृति का इतिहास ( Sex work in hindi )

जानिए क्या है भारत में वेश्यावृति का इतिहास | (Sex work in hindi) 

                                                                            

sex work in hindi , sex work , sex work in India in hindi , sex work kya hai , vaishyavritiy kya hai , vaishyavriti ka istihas kya , sex working kya hai , bharat me sex work , bharat me vaishyvriti ,Prostitution In India, red light area in india, vaishyavriti, deh vyapar
Sex work in hindi


आज भारत में ही नही बल्कि विश्व के ज्यादातर देशो में वेश्यावृति अर्थात देह व्यापार एक आम बात हो गई  है | महिलाए ,लडकियां को इस वेश्यालयों की शौभा माना जाता है | और ताजुब की बात तो यह है की  यह महिलाये या लडकियां आती कहाँ से है | गरीब के घरो से , सुनसान राहो , काम के दिलाने के बहाने ,खरीद कर ,मज़बूरी वश , जबरजस्ती उठाकर ,इत्यादि तरीको से यह वेश्यालय में लाई जाती है | आज भारत का ऐसा कोई भी राज्य नही बचा है |  जहाँ से महिलाओ एवं लडकियों को सेक्स वर्क हेतु  सपलाइ न किया जाता हो | इन वेश्यालय में महिलायों की उच्ची बोली लगाई जाती है और उन्हें खरीद लिया जाता है फिर उन्हें मजबूर किया जाता है | और इन महिलाओ एवं लडकियों से  देह व्यापार का कार्य लिया जाता है  |(Sex work in hindi)

भारत में काफी पुराना है सेक्स वर्क का व्यापार ( history of sex work Sex work business is very old in India )-

                                                                             


यदि वे ऐसा करने के लिए राजी नही होती तो इसके लिए नशीली दवाओं , या फिर किसी अन्य प्रकार का उन्हें भय दिखाकर यौन सम्बन्ध बनाने के लिए विवश किया जाता है | (Sex work in hindi)


    साभार - गूगल इमेज 


ऐतिहासिक पृष्टभूमि  ( Historical background of sex work in hindi in india ) - 


भारत में वेश्यावृति अर्थात देह व्यापार कोई नया शब्द नही है इसका वर्णन  वेदों ,पुरानो , स्मृतियों , रामायण , महाभारत ,कौटिल्य के अर्थशास्त्र में भी देखने को मिलता है | वेश्यालय को किसी भी समाज के लिए उपयुक्त नही माना जा सकता है लेकिन समाज के बड़े तबके के द्वारा इसे सदैव किसी न किसी आधार पर उचित साबित करने की कोशिश की गई है  -  

आखिर किस आधार पर विभिन्न कालखंडो में वेश्यावृति को सही ठहराया गया ( which is base , prostitution justified in different periods ) -

प्राचीन समय की बात करे तो विधि विधानों का सहारा लेकर  इस कुप्रथा को वैध प्रदान की गई थी  | प्राचीन समय में तो वैश्यओ पर टैक्स लगाए लगे थे अर्थात् उनको सम्मान प्राप्त था |मध्य युग में अभिजात वर्ग  के द्वारा  गौरव एवं  कलात्मक अभिरुचि के आधार पर इसको सही ठहराया गया | आधुनिक समय में इसे सामाजिक विवशता ,मानशिक विक्षेप, भोग की चाह में निरंतर वृद्धि के आधार  सही ठहराया जा रहा है  | उदाहारण के रूप में अग्रेजी शासन के समय देह व्यापार को सैनिक काम वासनाओ की पूर्ति के लिए महिलाओ को प्रस्तुत किया जाना देखा गया है | (Sex work in hindi)


भारत में वेश्यावृति  ( sex work in india in hindi ) -


आज भारत में वेश्यावृति अर्थात्  सेक्स वर्क के लगभग 30 %  महिलाए यौनकर्मी धन की आवश्कता के कारण  अथवा मजबुरी वश इसमें संलिप्त पाई गई है | आकडे बताते है की बहुत सारी महिलाए इस प्रकार के कार्य  मजबूर वश  करती है  |आल इंडिया नेटवर्क ऑफ़ यौनकर्मी की माने तो महिलाए हालात के हाथो मजबूर होने के कारण देह व्यापार संलिप्त होती है |आज देश के मध्य  ऐसा कई स्थान (राज्य ) नही मौजूद है जहां देह व्यापार खुले आम न चलाया जाता हो | उदाहरण के रूप में यदि देखे तो  गुजरात , मध्य प्रदेश  , उत्तर प्रदेश राज्य में तो नटपुरवा अर्थात नट जाति के लोगो के द्वारा  देह व्यापार का कार्य किया जाता है |वाराणसी शहर में स्थित मंडुआडीह जहाँ वेश्यालय में देह व्यापार को खुले आम चलाया जाता है | इसमें कोई संदेह नही की सेक्स वर्क के कार्य को रोक लगाने अथवा इस पर पाबंदी लगाने के इरादे से समय समय पर स्वयंसेवकों एवं गैरसरकारी संगठनों के द्वारा इस प्रथा का विरोध किया गया  | किन्तु आज भी देश में कुल 11 सौ सत्तर रेड लाईट एरिया है जिनमे व्यापारिक दृष्टि से कोलकत्ता और मुम्बई सबसे बड़ा  क्षेत्र प्रसिध्द है | जहाँ आये दिन करोडो रूपये के साप्ताहिक व्यापार हुआ करते है | भारत में कुछ ऐसे भी राज्य है जहाँ सेक्स वर्क का कार्य पुराना रहा है जिनमे राजस्थान , उ०प्र० , उड़ीस मुख्य है | यह वे स्थान है जहां वेश्यावृति को सर्वप्रथम गायन , नृत्य में रूप में दिखा करते थे | बाद के वर्षो में यही वेश्यालय में तब्दील हो गये |भारत में कुल यौन कर्मियों की संख्या १९९७ में  20 लाख थी जो २००३-०४ बढ़कर  में 30 लाख हो गई |
(Sex work in hindi)

वैश्यावृति वाले वाले शीर्ष देश ( Top countries with prostitution ) -                                                                                             

  • थाईलैंड 
  • ब्राजील 
  • स्पेन
  • इंडोनेशिया 
  • कोलम्बिया 
  • फिलीपिंस 
  • केन्या 
  • नीदरलैंड 
(Sex work in hindi)

क्या कहती है रिपोर्ट -




महिला एवम बाल विकास विभाग के द्वारा तैयार की गयी 
२००६ की रिपोर्ट मुताबिकदेश में कुल ९० फीसदी यौनकर्मी १५-३५ वर्ष के पाए गये |देह व्यापार के क्षेत्र में राजस्थान ,उ०प्र०, उत्तराचल शीर्देष स्खथान पर देखने को मिले |एक अनुमान के मुताबिक १२-१५ वर्ष की युवतिया इन वेश्यालय में देखने को मिली है | भारत की बात करे तो भारत में रोजाना २००० हजार रूपये का देह व्यापार का कार्य होता है |

महिला एवम बाल विकास विभाग के द्वारा तैयार की गयी २००७ की रिपोर्ट के मुताबिक- भारत में ३० लाख महिला सेक्स वर्कर है जिसमे से ३५. ४७ % महिलाए १८ वर्ष से कम आयु की महिला है |

राष्ट्रिय मनवाधिकार की रिपोर्ट के मुताबिक -  देश के मध्य कुल २ करोड़ सेक्स वर्कर है जिनमे २ लाख वर्कर मुम्बई में है | देश के कुल कुल सेक्स वर्कर के लगभग ६८ % लडकियो को देह व्यापार के क्षेत्र में झासा देकर लाई जाती है |

मुम्बई के पुलिस दस्तावेज़ के मुताबिक - विदेशो से देह व्यापार के क्षेत्र में  भारत में लाई जाने वाले महिलाओं की संख्या सबसे अधिक उज्बेकिस्तान कि है |

गृह मंत्रालय के २००७ के आकड़ो के अनुसार  - भारत में सबसे ज्यादा देह व्यापार वाले राज्य में तमिलनाडु शीर्ष पर है |इसके अलावा दुसरे पायदान पर कर्नाटक को रखा गया | सेक्स वर्क के मामले की यदि बात करे तो तमिलनाडू में  कुल ११९९ मामले देखने को मिले है | वही कर्नाटका में कुल देह व्यापार के ६१२ मामले देखने को मिले है | 

सीबीआई की रिपोर्ट मुताबिक - देश के अंदर कुल  १०  करोड़ महिलाए सेक्स वर्क के कार्य में संलिप्त है जिनमे  बहुत बड़ा हिस्सा बच्चियों का है जो कुल सेक्स वर्कर का लगभग  ४० %  है |

एड्स कण्ट्रोल बोर्ड के मुताबिक - गुजरात में कुल एड्स से प्रभावित महिला की संख्या में दिनोदिन बढ़ोत्तरी होती गई | १९९२ में एड्स से प्रभावित होने वाली महिलाओ की कुल संख्या का १७ थी जो सन २००० ई० में बढ़कर ४३ % हो गई | एड्स कण्ट्रोल बोर्ड की २००८ की रिपोर्ट के मुताबिक एड्स से प्रभावित होने वाली महिला की कुल संख्या का ४३ % से बढ़कर ५८ % हो गई |  
 (Sex work in hindi)


 वेश्यावृति के मुख्य कारण निम्नवत है  - ( The main reasons for prostitution are as follows ) -
                                                                                                                                   

1.   आर्थिक :
·        जीविकोपार्जन
·        आत्म नीरसता
·        अपनी एवं अपने आश्रितों की क्षुधा को शांत करने हेतु 
·        विलासिता
·        धन की आवश्कता
·        परिवार के आर्थिक स्थितीय का सही न होना
·        अल्वैतनिक
·        लाचारिय , लालच 


2.   सामाजिक :
·        विवाह का अनिवार्य होना
·        समाज द्वारा मान्यता प्रदान किया जाना
·        दहेजप्रथा
·        विधवा विवाह पर प्रतिबन्ध 
·        सामाजिक बहिष्कार
·        अनमेल विवाह
·        तलाक प्रथा का अभाव
·        त्याग
·        सुखमय जीवन का लालच
·        आश्लिल साहित्य ,चलचित्र आदि |
  

3.  मनोवैज्ञानिक कारण :
·        काम वासना की इच्छा
·        आत्म संतुष्टि
(Sex work in hindi)

भारत में वेश्यावृति उन्मूलन हेतु किये गए प्रयास (Efforts made to eradicate prostitution in India ) - 
                                                                                                                                  

भारत में वेश्यावृति को रोकने हेतु कोई ठोस नियम और कानून न निर्मित होने के कारण आज भी सेक्स वर्क का कार्य तेजी से हो रहा है| निसंदेह भारत सरकार द्वारा भारतीय दंड सहिता १८६० के तहत वेश्यावृतिउन्मूलन कानून ,और अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम १९५६ पास किया गया , परन्तु यह कानूनों कोई खास कामगर साबित नही हो सके है जिसकी वजह से सेक्स वर्क का कार्य अभी भी हो रही है  | ऐसे में जरुरत है ठोस नियम व कानून की ताकि सेक्स वर्क के व्यापार पर लगाम लगाया जा सके |   
(Sex work in hindi)

Sex work in hindi  - नामक  यह आर्टिकल आपको कैसा लगा आपके इसके सुझाव कॉमेट बॉक्स में कॉमेट करके दे सकते है |  धन्यवाद !
लेखक - शिव कुमार खरवार

No comments:

Post a comment